‘दो-दिन की चांदनी की तरह आता “फिर बाकी दिन रुलाता”-साहित्य लेख

 

WRITER-AAPKI DEEVAAANSHI

DATE-SEPTEMBER 29th,2019

आज-कल जँहा फैशन का जमाना है क्या आजकल लोग सादगी पसंद करते है ?

आजकल जंहा दिखावा हर जगह पर ही दिखता और  दिखावा ही सब जगह चलता है क्या कोई दिखावे को पंसद नहीं करने वाले इंसान को पसंद करता है? ऐसी कई बाते हमारे मन {जहन}में आती है 

तो जाने आज इसके बारे में कुछ नया और दिल्चस्प्प 

अक्सर आपने देखा ही होगा महँगी चीज और सामान काफी सिंपल-सा ही होता जैसे बैग,सैंडल ,कपड़े ,जूते आदि लेकिन काफी सजावटी सामान से सिंपल सामान सदाबहार होकर हमेशा काफी हाई प्राइस में बिकता है और अपनी क्वालिटी से जाना जाता है और सजावटी सामान नुक्क्ड़  की गली में ही बिकता और वो भी काफी सस्ता ही बिकता और कम समय ही चलता है बाजार में और जीवन में प्रयोग होने में भी

फिर हम सब  सिंपल सामान सजावटी होकर क्वालिटी अच्छी बनाकर क्यों नहीं बेचते ?

इसका एक काफी सुंदर जवाब यही होगा की सदाबहार कभी सजावटी नहीं हो सकता क्यूंकि हुनर उसी में ही होता जो सादगी भरे मन के साथ सच्चे दिल से पैशनेट होकर कार्य करे नाकि दिखावा कर लोगो को धोखा दे और खुद भी धोखे के साथ खुश रहे|
माना ट्रेंड के साथ चलना चाहिए लेकिन ज्यादा दिखावा ‘दो-दिन की चांदनी की तरह आता “फिर बाकी दिन रुलाता”
 लेकिन जो आपमे सिंपल -सादगी है और उसमे हुनर का तड़का और लगा दिया जाए तो वह ब्रांड की तरह जाना जायेगा हमेशा और हम अक्सर ये समाज मे देखते भी है|
इसलिए ट्रेंड के साथ चलिए जरूर,लेकिन दिखावे में खुद को खो जाने नहीं दीजिये|
काफी बड़े जाने-माने लोग जैसे मार्क-ज़ुकरबर्म ,बिल-गेट और जानी -मानी हस्ती  सभी ट्रेंड और समय अनुसार जरूर जीते है लेकिन वो मन से सादगी पसंद होने के कारण खुद को  घमंड में चूर कभी नहीं होते और खुद प्रगति कर लोगो अपने ट्रेंड्स का दीवाना बना देते है और नया स्टाइल खुद बनाते है और फिर फोल्लोवेर्स तो दुनिया बनने के लिए हमेशा खुद तैयार है क्यूंकि वे हमारे प्रेरक है और हम उनसे प्रेरित होकर हम भी कुछ अच्छा और खास करने के लिए प्रेरित रहते है |
इसलिए खुद को ”काबिलियत बनाएं, नाकि दिखावे का खोखला जीवन इंसान  ”
यह सपांदकीय लेख कैसा लगा आपको  इस पर अपने कीमती विचार हमारे साथ साँझा करीयेगा |

Leave a Reply